Patanjal Yog Sutra Test – 7

0%

You will get 15 minutes to solve 20 questions.


Patanjal Yog Sutra Test - 7

The aim of Vedamrita is to make the students of Yoga subject perfect for the preparation of NET-JRF and other competitive examinations ....

1 / 20

जागृत और स्वप्नवस्था के अभाव का आलंबन बने रहना कौन सी वृत्ति कहलाती है?

2 / 20

योग सूत्र के अनुसार सभी कर्मों को ईश्वर के प्रति समर्पित पर कर देना क्या कहलाता है?

3 / 20

योग सूत्र के अनुसार सांस को बाहर फेंकना कहलाता है?

4 / 20

योगसूत्र के अनुसार सभी दुखी प्राणियों के प्रति कैसा भाव रखना चाहिए?

5 / 20

योगसूत्र के अनुसार पुण्य करने वाले सभी प्राणियों के प्रति कैसा भाव रखना चाहिए?

6 / 20

योगसूत्र के अनुसार चित्त को मलिन करने वाले कितने प्रकार के मल बताए गए हैं?

7 / 20

योगसूत्र के अनुसार सांस को अंदर लेने की प्रक्रिया कहलाती है?

8 / 20

महर्षि पतंजलि ने चित्तवृत्ति निरोध के अन्य उपायों में किन का वर्णन किया है?

9 / 20

योग सूत्र के अनुसार अभ्यास और वैराग्य के द्वारा किसका निरोध होता है?

10 / 20

योगसूत्र के अनुसार वेद शास्त्र और यथार्थ वक्ता पुरुषों के वचन को क्या कहा जाता है?

11 / 20

योगसूत्र के अनुसार अनुमान प्रमाण के कितने प्रकार बताए गए हैं?

12 / 20

योग सूत्र के अनुसार नदी में बाढ़ देखकर दूर देश या शहर में बारिश या बाढ़ का ज्ञान होना कौन सा प्रमाण दर्शाता है?

13 / 20

योगसूत्र के अनुसार आकाश में बादल को देखकर वर्षा का अनुमान लगाना कौन सा अनुमान कहलाता है?

14 / 20

योग सूत्र के अनुसार रात के अंधेरे में रस्सी को सर्प समझना यह किस वृत्ति का उदाहरण है?

15 / 20

योगसूत्र के अनुसार सुखी रहने वाले सभी प्राणियों के प्रति मित्रता की भावना कहलाती है?

16 / 20

योग सूत्र के अनुसार विपरीत ज्ञान, अवास्तविक ज्ञान, मिथ्या ज्ञान किस वृत्ति को कहा गया है?

17 / 20

योगसूत्र के अनुसार पाप करने वाले व्यक्तियों के प्रति कैसा भाव रखना चाहिए?

18 / 20

योग सूत्र के अनुसार ईश्वरप्रणिधान से किस की प्राप्ति होती है?

19 / 20

महर्षि पतंजलि ने ईश्वरप्रणिधान हेतु किसके जप का विधान बताया है?

20 / 20

योग सूत्र के अनुसार खरगोश के सींग होते हैं यह किस वृत्ति का उदाहरण है?

Your score is

The average score is 55%

0%

Leave a Comment