PYS TEST – 8

0%

You will get 15 minutes to solve 20 questions.


PATANJAL YOG SUTRA QUIZ

  1. The aim of Vedamrita is to make the students of Yoga subject perfect for the preparation of NET-JRF and other competitive examinations ....

1 / 100

चित्त विक्षेप के प्रकार है?

2 / 100

पतंजलि के अनुसार कण्ठकूप पर ध्यान से मिट जाती है?

3 / 100

पतंजलि के अनुसार " महाविदेहा" है?

4 / 100

गीताप्रेस से प्रकाशित पातंजल योगदर्शन के टीकाकार कौन है?

5 / 100

हेतू, फल, आश्रय और आलम्बन के द्वारा क्या संग्रहित होते हैं?

6 / 100

योग शब्द की उत्पत्ति किस धातु से हुई है?

7 / 100

विवेक ज्ञान में वैराग्य से कौनसी समाधि की प्राप्ति बतलायी गयी है?

8 / 100

ईश्वर के निमित्त प्रणव का जप करना चाहिए?

9 / 100

ईश्वर का सजातीय तत्व क्या है?

10 / 100

ज्ञेय वस्तु से भिन्न रूप में प्रतिष्ठित मिथ्याज्ञान होता है?

11 / 100

असंप्रज्ञात समाधि के भेद कौन से है?

12 / 100

पतंजलि के अनुसार योगियों के अतिरिक्त अन्य लोगो के कर्म होते हैं?

13 / 100

पतंजलि के अनुसार हेय है?

14 / 100

चिते का अर्थ क्या है?

15 / 100

अपने कारणरूप में सदैव एक समान रहने वाला?

16 / 100

पतंजलि के अनुसार परिचित ज्ञान निम्न में से किस की चित पर संयम से संबधित है?

17 / 100

कैवल्य पाद में कितनी सिद्धियों का उल्लेख है?

18 / 100

जाति, देश,काल, समयावच्छिन्न महाव्रत है?

19 / 100

कैवल्य की अवस्था कैसी होती है?

20 / 100

पतंजलि के अनुसार मृत्यु का ज्ञान निम्न से होता है?

21 / 100

योगदर्शन के अनुसार कितने तत्व माने गए हैं?

22 / 100

मैं और मेरे का भाव कौन सा क्लेश दर्शाता है?

23 / 100

चित्त का मूल स्वरूप कैसा है?

24 / 100

योगसूत्र के अनुसार  प्राणायाम मुख्यतः कितने प्रकार के है?

25 / 100

योगदर्शन के अनुसार मुख्य तत्व है?

26 / 100

पतंजलि के अनुसार किसमे संयम करने से स्थिरता होती है?

27 / 100

 निम्नलिखित में से कौनसा चित्त का घटक नहीं है?

28 / 100

चित्त सक्रिय कब होता है ?

29 / 100

पतञ्जलि के अनुसार क्षण एवं उसके क्रम में किये गए संयम से फ़लीभूत होता है?

30 / 100

कर्म संस्कार में भेद कब नही रहता है?

31 / 100

ग्रहीता, ग्रहण एवं ग्राहय में स्थित चित्त का उनके आकार को ग्रहण कर लेना है?

32 / 100

पतंजलि के अनुसार चितवृत्तियों का निरोध का उपाय है ?

33 / 100

जब कोई क्लेश किसी दूसरे क्लेश की चरमावस्था में पहुंचने से दब जाता है। तब यह अवस्था कहलाती है?

34 / 100

पतंजलि के अनुसार शरीर संस्थान का ज्ञान निम्न पर संयम करने से होता है?

35 / 100

पतंजलि के अनुसार विषय मे ज्ञान की एकतानता को कहा जाता है?

36 / 100

अविधा के मिटने पर जो "हान" होता है; वह कहलाता है?

37 / 100

योग के प्रमुख ग्रन्थ योगसूत्र के रचयिता कौन है?

38 / 100

पतंजलि के अनुसार शरीर संस्थान का ज्ञान निम्न पर संयम करने से होता है?

39 / 100

पातंजल योगसूत्र है?

40 / 100

पतंजलि के अनुसार निम्न प्राण पर संयम से योगी तेजोमय हो जाता है?

41 / 100

असम्प्रज्ञात समाधि की सिद्धि निम्न साधकों को शीघ्र होती है?

42 / 100

असम्पज्ञात समाधि निम्न के उपरांत फ़लीभूत होती है?

43 / 100

निम्न में से अष्ट सिद्धियां है?

44 / 100

पापात्मा के प्रति योग साधक को भाव रखना चाहिए?

45 / 100

योग को किस पद द्वारा सबसे सटीक ढंग से परिभाषित किया जा सकता है?

46 / 100

धर्ममेध समाधि उदित होने से चित्त के सत्व आदि त्रिगुण के परिणाम के क्रम की होती है?

47 / 100

अध्यात्म प्रसाद किसका परिणाम है?

48 / 100

पातंजल योगसूत्र समाधि पाद के निम्न सूत्रों में ईश्वर की मुख्य विशेषताएँ विवेचित हैं?

49 / 100

अपर वैराग्य की स्थिति कौनसी है?

50 / 100

किसका आभाव वासनाओं के अभाव से संबंधित है?

51 / 100

साधक के कितने प्रकार बताए है?

52 / 100

पतंजलि के अनुसार पुरूष का कैवल्य है?

53 / 100

क्रियाफलाश्रय किसका फल है?

54 / 100

विभिन्न प्रकार की प्रवृत्तियों में अनेकों चित्तो को नियुक्त करने वाला कौन होता है?

55 / 100

पतंजलि के अनुसार प्रतिभ ज्ञान से जान लिया जाता है?

56 / 100

पतंजलि के अनुसार किसमे संयम करने से स्थिरता होती है?

57 / 100

पतंजलि के अनुसार "हेय" का "हेतु" है?

58 / 100

पतंजलि के अनुसार सर्वज्ञता का बीज अपनी पराकाष्ठा को निम्न में प्राप्त होता है?

59 / 100

'ते व्यक्तसूक्ष्मा गुणात्मान:'।। सूत्र में ते से क्या अभिप्राय है?

60 / 100

किस गुण की प्रबलता के समय में देह त्याग होने पर मनुष्य योनि की ही प्राप्ति होती है?

 

 

61 / 100

सिद्धि प्राप्तियों में शरीर इन्द्रियों व चित्त का एक प्रकार से दूसरे में बदलना कहलाता है?

62 / 100

महर्षि पतंजलि ने कर्म के भेद बतलाए है?

63 / 100

पातञ्जल योगसूत्र के अनुसार कृत, कारिता और अनुमोदिता किसके प्रकार हैं?

64 / 100

पतञ्जलि के अनुसार प्रकाश पर पड़ा हुआ पर्दा क्षीण किससे होता है?

65 / 100

पतंजलि के अनुसार परिचित्तज्ञान होता है?

66 / 100

किस भूमि में चित्त तमोगुण प्रधान होता है?

67 / 100

सत्य को ग्रहण करने वाली बुद्धि को कहा जाता है ?

68 / 100

क्लिष्ट वृत्तियों की अवस्था होती हैं?

69 / 100

पतंजलि के अनुसार महाविदेहा से क्षय होता है?

70 / 100

पतंजलि के अनुसार सूर्य में किये गए संयम से निम्न का ज्ञान होता है?

71 / 100

चित्त वृत्तियां किससे नष्ट होने योग्य हैं?

72 / 100

"मैत्रयादिषु बलानी" सूत्र का सम्बंध है?

73 / 100

सम्प्रज्ञात समाधि के कितने भेद है?

74 / 100

ऐसा नियम जो क्रिया योग का अंग हो?

75 / 100

पतंजलि के अनुसार निम्न में संयम करने से चित्त का साक्षात्कार होता है?

76 / 100

तत प्रत्येकतानता ध्यानम योग दर्शन के किस पाद से लिया गया है?

77 / 100

योगसूत्र के अनुसार क्लेश कितने है?

78 / 100

महर्षि पतंजलि के अनुसार किस योग का फल समाधि सिद्धि के लिए बताया गया है?

79 / 100

अष्टांग योग में सर्वाधिक महत्वपूर्ण अंग है?

80 / 100

योगी के लिए सभी फल हैं?

81 / 100

महर्षि पतंजलि के अनुसार अन्तराय तथा विक्षेप सहभुव को दूर करने के उपाय क्या है?

82 / 100

जब कोई क्लेश अपनी सम्पूर्ण अवस्था में उभरकर चित्त पर छा जाता है।  तब यह अवस्था होती है?

83 / 100

विवेकख्याति में भी वीतराग योगी को सर्वथा विवेकख्याति होने की स्थिति होती है?

84 / 100

योगसूत्र किसके लिए उपयुक्त बताई गई है?

85 / 100

तत: क्लेकर्मनिवृत्ति: ,,,,पातंजल योग सूत्र के कौन से पाद से लिया गया है?

86 / 100

पतंजलि के अनुसार वस्तु एक ज्ञान के अधीनरूप -

87 / 100

सम्पूर्ण निरोध से सिद्ध होती है?

88 / 100

पतञ्जलि के अनुसार चन्द्रमा पर संयम करने से निम्न का ज्ञान होता है?

89 / 100

चित्त की पांच भूमियों का वर्णन ....किया है।

90 / 100

पतंजलि योग सूत्र में किस प्रकार के कर्म का वर्णन नहीं है? 

91 / 100

गुण परिणाम के क्रम की समाप्ति है?

92 / 100

पतंजलि के अनुसार नेत्र के प्रकाश से संयोग न होने पर निम्न सिद्ध होता है?

93 / 100

कैवल्य पाद में किसके रूप का विश्लेषण किया गया है?

94 / 100

कष्टों को प्रसन्नता सहन करते हुये लक्ष्य प्राप्त करना कौन सी साधना है?

95 / 100

संप्रज्ञात समाधि के कितने भेद है?

96 / 100

विवेकख्याति के उपरान्त भी जीवित रहने की स्थिति है?

97 / 100

पातंजल योगसूत्र में कैवल्य पाद में सूत्रों की संख्या है?

98 / 100

निष्काम कर्म होते हैं?

99 / 100

चित्तशक्ति का अपने स्वरूप में प्रतिष्ठित हो जाना है?

100 / 100

पातंजलयोगसूत्र के निम्न पाद में ईश्वर की मुख्य विशेषताएँ बताई गई हैं?

Your score is

The average score is 31%

0%

Leave a Comment