Swasthvrit – 2

0%

You will get 15 minutes to solve 20 questions.


Swasthvrit - 2

The aim of Vedamrita is to make the students of Yoga subject perfect for the preparation of NET-JRF and other competitive examinations ....

1 / 20

पूरे भरावदार ,स्वभाविक रंग हो, वह गंजे ना हो आचार्य चतुरसेन ने यह किसका गुण बताया है?

2 / 20

मन में सात्विक, राजसिक और तामसिक की प्रधानता होती है तब वह क्या कहलाता है?

3 / 20

चिकनी और नरम शरीर के किसी भाग पर उंगली का पोरूवा दबाकर उठते ही तत्काल गड्ढा भर जाए यह किसका गुण बताया है?

4 / 20

परोपकार के भाव से कौन प्रसन्न होता है?

5 / 20

आचार्य चतुरसेन जी के अनुसार तेज या मंद ना हो किंतु स्वाभाविक और सतेन हो यह किसका गुण है?

6 / 20

शरीर के पोषण के लिए क्या आवश्यक होता है?

7 / 20

शरीर, इंद्रिय, मन एवं आत्मा के संयोग को क्या कहा गया है?

8 / 20

किसी प्रकार की लकीरे या दाग ना हो उज्जवल गुलाबी रंग हो आचार्य चतुरसेन ने यह किसका गुण बताया है?

9 / 20

जो मानव शरीर से ,मन से, सामाजिक तौर पर और आध्यात्मिक दृष्टि से बीमार नहीं है वही व्यक्ति स्वस्थ है यह परिभाषा किसके द्वारा दी गई है?

10 / 20

आयु को परिभाषित किस शास्त्र में किया गया है?

11 / 20

स्वस्थ व थकान दूर करने वाली और बीच में न टूटने वाली को आचार्य चतुरसेन ने यह किसका गुण बताया है?

12 / 20

स्थितप्रज्ञ के समान, सदा स्वभाविक आनंद में मग्न रहना आचार्य चतुरसेन ने किसका गुण बताया है?

13 / 20

आचार्य चतुरसेन ने पानीदार और निर्मल किसका गुण बताया है?

14 / 20

निस्वार्थ सामाजिक सेवा करने से तथा दीन दुखियों की मदद करने से किसकी प्रसन्नता उत्पन्न होती है?

15 / 20

मन में कितने प्रकार की यथा होते हैं?

16 / 20

पांच कर्मेंद्रियां एवं पांच ज्ञानेंद्रियां अपने अपने कार्य को सामान्य रूप से प्रसन्नता पूर्वक करें तो किस की प्राप्ति होती है?

17 / 20

मन के कितने गुण बताए गए हैं?

18 / 20

अणुत्व एवं एकत्व किसके गुण बताए गए हैं?

19 / 20

पांच कर्मेंद्रियां एवं पांच ज्ञानेंद्रियां अपने अपने कार्य को सामान्य रूप से प्रसन्नता पूर्वक करें तो किसकी प्रसन्नता कहलाती है?

20 / 20

स्वस्थ व्यक्ति के किसमें सदैव प्रसन्नता रहती है?

Your score is

The average score is 28%

0%

Leave a Comment

You must be logged in to post a comment.