UPNISHADS – 21

0%

You will get 15 minutes to solve 20 questions.


UPNISHADS - 21

The aim of Vedamrita is to make the students of Yoga subject perfect for the preparation of NET-JRF and other competitive examinations ....

1 / 20

मातृ देवोभव: पितृ देवो भव: अतिथि देवो भव: आचार्य देवो भव: यह कथन किस उपनिषद में बताया गया है?

2 / 20

साम का सार रूप किसको बताया गया है?

3 / 20

कौन से योगी दीर्घजीवन को प्राप्त करते हैं?

4 / 20

छांदोग्य उपनिषद के द्वितीय अध्याय में कितने खण्ड बताए गए हैं?

5 / 20

छांदोग्य उपनिषद में सर्वोत्तम रस किसे बताया गया है?

6 / 20

छांदोग्य उपनिषद के कौन से अध्याय में पंचमहाभूतों का वर्णन किया गया है?

7 / 20

छांदोग्य उपनिषद किस वेद से लिया गया है?

8 / 20

छांदोग्य उपनिषद के अनुसार साम की श्रेष्ठता को किस अध्याय में बताया गया है?

9 / 20

छांदोग्य उपनिषद में कितने अध्याय बताए गए हैं?

10 / 20

छांदोग्य उपनिषद में प्रथम प्रपाठक किसे बताया गया है?

11 / 20

संसार में जो कुछ भी श्रेष्ठ है वह क्या कहलाता है?

12 / 20

तेत्तरीय उपनिषद की कौन सी वल्ली में पंच कोसों का वर्णन किया गया है?

13 / 20

छांदोग्य उपनिषद के प्रथम अध्याय में कितने खंड बताए गए हैं?

14 / 20

शरीर की आत्मा किस कोश बताया गया है?

15 / 20

उदगीथ को अन्य किस नाम से जाना जाता है?

16 / 20

मनोमय कोष में ब्रह्मानंद की अनुभूति कहां पर की जाती है?

17 / 20

तेत्तरीय उपनिषद के अनुसार ईश्वर को कहां पर विराजमान बताया गया है?

18 / 20

किसको सर्वोत्तम रस माना गया है?

19 / 20

ब्रह्म को क्या बताया गया है?

20 / 20

प्राण किसी भी शरीर की क्या कहलाती है?

Your score is

The average score is 25%

0%

Leave a Comment

You must be logged in to post a comment.