UPNISHADS – 27

0%

You will get 15 minutes to solve 20 questions.


UPNISHADS - 27

The aim of Vedamrita is to make the students of Yoga subject perfect for the preparation of NET-JRF and other competitive examinations ....

1 / 20

योगराज उपनिषद के अनुसार शून्य में स्थान में चित्त लय ध्यान द्वारा होने पर योगी निश्चय ही किस की प्राप्ति कर लेता है?

2 / 20

कौन से चक्र में ज्योति का ध्यान करने के लिए बताया गया है?

3 / 20

ब्रह्मरंध्र चक्र में जालन्धर पीठ का कैसा रंग बताया गया है?

4 / 20

नली वर्ण जालंधर पीठ पर ध्यान करने से किस की प्राप्ति बताई गई है?

5 / 20

यदि अनेक योजन विस्तरण पर्वत के समान विशाल पाप भी हो तो वह किसके द्वारा छिन्न-भिन्न हो जाता है?

6 / 20

पुरुष के शरीर में अंदर और बाहर कौन विद्यमान रहता है?

7 / 20

ब्रह्मरंध्र चक्र को अन्य किस नाम से जाना जाता है?

8 / 20

ध्यानपूर्वक चित्तलय का फल किसकी प्राप्ति कराता है?

9 / 20

पूर्वाशक्ति का ध्यान कहां पर किया जाता है?

10 / 20

किस चक्र के स्थान को घंटिका का स्थान भी कहा जाता है?

11 / 20

ब्रह्मरंध्र चक्र में जालन्धर पीठ का कैसा रंग बताया गया है?

12 / 20

किसके अतिरिक्त अन्य कोई पाप भेदन का उपाय नहीं है?

13 / 20

ब्रह्मरंध्र चक्र में जालन्धर पीठ का कैसा रंग बताया गया है?

14 / 20

योगराज उपनिषद के अनुसार किस चक्र को राजदन्त के नाम से भी जाना जाता

15 / 20

संविदरूपा पराशक्ति किस चक्र में स्थित बताई गई है?

16 / 20

ध्यानबिंदुपनिषद में किसके महत्व पर जोर दिया गया है?

17 / 20

व्योम चक्र में कितने पटल बताए गए हैं?

18 / 20

ध्यान-योग के द्वारा साधक किस स्थिति को प्राप्त कर लेता है?

19 / 20

ध्यान बिंदु उपनिषद के अनुसार भूत में कौन विद्यमान रहता है?

20 / 20

दसवें द्वार का मार्ग किस चक्र को बताया गया है?-हृदय चक्र को

Your score is

The average score is 70%

0%

Leave a Comment

You must be logged in to post a comment.